Published On: Wed, Apr 11th, 2018

US सीनेट में जकरबर्ग ने मांगी माफी,चुनाव में ईमानदारी बरतने का किया वादा

वॉशिंगटन। फेसबुक संस्थापक मार्क जकरबर्ग ने डेटा लीक मामले में अमेरिकी सीनेट के सामने पेश होकर माफी मांगी है। सेनेट कॉमर्स ऐंड जूडिशरी कमिटियों के सामने पेश हुए जकरबर्ग ने फेसबुक के जरिए हुई गड़बडिय़ों की जिम्मेदारी ली और चुनावों के दौरान लोगों का भरोसा बहाल बनाए रखने की बात कही। उन्होंने कहा कि भारत में आगामी चुनावों के दौरान पूरी सर्तकता बरती जाएगी। अमेरिकी कांग्रेस में पेशी के दौरान जकरबर्ग ने कहा, हमारी यह जिम्मेदारी है कि केवल टूल्स ही ना बनाएं, बल्कि यह भी आश्वस्त करें कि उन टूल्स का इस्तेमाल अच्छे के लिए हो। यह स्पष्ट है कि हम टूल्स का इस्तेमाल गलत चीजों के लिए होने से रोक नहीं पाए। फेक न्यूज, हेट स्पीच, चुनावों में विदेशी हस्तक्षेप, डाटा की निजता जैसे नुकसान को रोकने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठा पाए। हम अपनी जिम्मेदारी को बेहतर तरीके से नहीं निभा पाए।
यह बड़ी गलती है और मैं माफी मांगता हूं। मैंने फेसबुक शुरू किया, मैं इसे चलाता हूं और यहां जो कुछ भी होता है उसके लिए मैं ही जिम्मेदार भी हूं। उन्होंने कहा, हम आश्वस्त करते हैं कि भारत में आगामी चुनावों के दौरान सर्तकता बरतने में अपना सर्वश्रेष्ठ देंगे। 2016 में हुए अमेरिकी चुनावों के बाद हमारी प्राथमिकता दुनिया भर में हो रहे चुनावों में सर्तकता बरतने की है। डेटा प्राइवेसी और चुनावों में विदेशी हस्तक्षेप ही वह सबसे बड़े मसले हैं, जिनका सामना कंपनी करती है। इन अधिकारों को अच्छे से निभाने की जिम्मेदारी बहुत बड़ी है।जकरबर्ग ने कहा, हम जांच कर रहे हैं कि कैम्ब्रिज एनालिटिका ने क्या गोपनीय जानकारी जुटाई। अब हमें पता है कि उन्होंने किसी ऐप डिवेलपर से खरीद कर लाखों लोगों की जानकारी, जैसे नाम, प्रोफाइल पिक्चर्स और फॉलो किए जाने वाले पेजों की जानकारी गलत तरीके से जुटाई गई। जकरबर्ग ने कहा कि यूजर्स की निजी जानकारियों को बाहरी लोगों से बचाने के लिए कंपनी ने कई कदम उठाए हैं। इससे अलग जकरबर्ग ने मंगलवार को एक फेसबुक पोस्ट में लिखा कि वह फेसबुक को दुनिया की पॉजिटिव ताकत बनाने के लिए सबकुछ करेंगे, जहां लोग एक दूसरे के पास रह सकेंगे।

fdfd