Published On: Mon, Nov 6th, 2017

4 देशों के सम्मेलन से हमें कोई नुकसान नहीं : चीन

चीन ने उम्मीद जताई है कि अमेरिका की मध्यस्थता में होने वाले चतुष्पक्षीय सम्मेलन के टारगेट पर चीन नहीं है और यह समय के रुझानों के अनुरूप होगा। ये रुझान शांति, विकास और सहयोग के हैं। सम्मेलन में भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया शामिल हैं। पिछले हफ्ते अमेरिकी सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि वॉशिंगटन भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ मिलकर एक ‘फलदायी’ आदान-प्रदान में दिलचस्पी रखता है।
जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे भी चारों शक्तियों के साथ कुछ ऐसी ही व्यवस्था के हिमायती हैं, जिसका प्रस्ताव वह राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की टोक्यो यात्रा के दौरान कर सकते हैं। इस पर भारत ने कहा है कि ‘समान अभिरुचि के साथ प्रासंगिक एजेंडे पर काम करने वाले देशों के साथ वह खुले मन से सहयोग करने को तैयार है।’ चीन के विदेश मंत्री ने कहा है कि ऐसी व्यवस्था से क्षेत्र के देशों के बीच आपस में भरोसा कायम होगा
और चीन के हितों को कोई हानि नहीं पहुंचेगी।
चीन के विदेश मंत्री ने उम्मीद जताई कि इससे देशों व क्षेत्रों में तीसरे पक्ष को निशाना बनाए बिना आपसी भरोसा कायम होने के साथ-साथ शांति और समृद्धि भी आएगी।