Published On: Sun, Aug 6th, 2017

एम. वेंकैया नायडू देश के 15वें उपराष्ट्रपति

नायडूएम. वेंकैया नायडू देश के 15वें उपराष्ट्रपति होंगे। देश के दूसरे सबसे बड़े संवैधानिक पद के लिए शनिवार को हुए चुनाव में एनडीए के उम्मीदवार नायडू ने दो तिहाई से अधिक वोट प्राप्त करके विपक्ष के उम्मीदवार गोपाल कृष्ण गांधी को हरा दिया। नायडू 11 अगस्त को उपराष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे। भैरों सिंह शेखावत के बाद वह इस पद पर पहुंचने वाले भाजपा के दूसरे नेता हैं। यह पहली बार होगा जब राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति (राज्यसभा के सभापति), पीएम और लोकसभा अध्यक्ष- सभी चारों भाजपा नीत एनडीए से हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति निर्वाचित वेंकैया नायडू और पीएम नरेंद्र मोदी, तीनों ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े रहे हैं।
नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा, ‘किसान पृष्ठभूमि से आने के मद्देनजर मैंने इसकी कल्पना नहीं की थी कि मैं यहां पहुंच सकूंगा। मैं कृतार्थ हूं। मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सभी पार्टी नेताओं का समर्थन देने के लिए आभारी हूं। मैं उपराष्ट्रपति संस्था का उपयोग राष्ट्रपति के हाथ मजबूत बनाने के लिए करूंगा और ऊपरी सदन की मर्यादा को कायम रखूंगा।’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उपराष्ट्रपति निर्वाचित होने पर उन्हें बधाई दी। प्रधानमंत्री ने विश्वास व्यक्त किया कि वेंकैया नायडू उपराष्ट्रपति के रूप में पूरी लगन और समर्पण के भाव से राष्ट्र की सेवा करेंगे और राष्ट्र निर्माण के लक्ष्य के प्रति समर्पित रहेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नायडू को शुभकामनाएं देते हुए उन्हें उच्च सदन के कुशल संचालन में कांग्रेस पार्टी की ओर से सहयोग देने की पेशकश की। वर्तमान उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने भी नायडू को बधाई दी। लगातार 2 कार्यकाल से उपराष्ट्रपति अंसारी का कार्यकाल 10 अगस्त को खत्म हो रहा है।
उपराष्ट्रपति निर्वाचित होने के बाद वेंकैया नायडू के निवास पर जश्न का माहौल छा गया। प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने देर शाम नायडू के निवास पर पहुंच कर उनका अभिनंदन किया।
98 फीसदी मतदान, 11 वाेट अवैध
उपराष्ट्रपति चुनाव के 98.21 फीसदी सांसदों ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। सुबह 10 बजे से शुरू वाेटिंग के दौरान दोनों सदनों के कुल 785 सांसदों में से 771 ने वोट डाले। आंध्रप्रदेश से आने वाले 68 वर्षीय नायडू को 516 वोट मिले। वहीं, Vice Presidential Electionमहात्मा गांधी के पोते गोपालकृष्ण को 244 वोट प्राप्त हुए। मतदान में 11 वोट अवैध पाये गये, जबकि 14 सांसद वोट नहीं डाल पाये। न्यायिक आदेश के बाद भाजपा के एक लोकसभा सदस्य के मतदान पर रोक लगाई गई थी।
‘वाेट देने वाले सांसदों का धन्यवाद’
गोपालकृष्ण गांधी ने कहा, ‘मैं वेंकैयाजी को उपराष्ट्रपति पद की बधाई देता हूं। मैं सभी सांसदों का धन्यवाद अदा करता हूं। अभिव्यक्ति की आजादी और धर्मनिरपेक्षता के लिए देश की सभी पार्टियां एकसाथ होकर लड़ीं। इस चुनाव में बहुत बड़ी जीत मिली है। पहली वेंकैयाजी को और दूसरी अभिव्यक्ति की आजादी को। दूसरी जीत भारत के समस्त नागरिकों से जुड़ी है।’