Published On: Thu, Nov 16th, 2017

PM का जादू बरकरार,भारतीय राजनीति की सबसे लोकप्रिय हस्ती मोदी: सर्वे

नई दिल्ली। मोदी सरकार के लिए गुजरात चुनावों से पहले अच्छी खबर आई है। एक सर्वे के अनुसार भारतीय राजनीति में पीएम मोदी का जादू अभी भी बरकरार है। ज्ञातव्य है पीएम मोदी नोटबंदी और जीएसटी जैसे फैसलों को लेकर देश में आलोचनाओं का सामना कर रहे हैं लेकिन इसके बावजूद सर्वे में पीएम मोदी को भारतीय राजनीति में सबसे लोकप्रिय हस्ती माना है। यह सर्वे अमेरिकी थिंक टैंक प्यू रिसर्च सेंटर ने करवाया है। इस सर्वे में करीब 2464 लोगों को शामिल किया गया था। यह सर्वे इस वर्ष 21 फरवरी से 10 मार्च के बीच किया गया। इस सर्वे में शामिल 88 फीसदी लोगों ने पीएम मोदी को भारतीय राजनीति की सबसे लोकप्रिय हस्ती माना है।

वहीं सर्वे में कांग्रेस उपाण्ध्यक्ष राहुल गांधी दूसरे नंबर पर हैं। राहुल गांधी को 58 फीसदी लोगों ने सबसे लोकप्रिय नेता माना है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी इस सूची में तीसरे नंबर पर हैं। केजरीवाल को इस सर्वे में 39 फीसदी लोगों ने लोकप्रिय नेता माना है। केजरीवाल इस सूची में चौथे नंबर पर है। इस सर्वे रिपोर्ट में कहा गया है कि जनता द्वारा मोदी का सकारात्मक आंकलन भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर बढती संतुष्टि से प्रेरित है। सर्वे में शामिल हर 10 में से 8 लोगों ने माना है कि भारत की आर्थिक दशांए अच्छी हैं।

इस सर्वे में अर्थव्यवस्था को बहुत अच्छा बताने वाले वयस्कों के आंकड़े में पिछले तीन साल में तीन गुना वृद्धि हुई है। वहीं भारत की दशा को लेकर सकारात्मक आकलन में 2014 से करीब दोगुनी वृद्धि हुई है। पीएम मोदी का जादू दक्षिणी राज्यों में बढा है। पीएम मोदी आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु और तेलंगाना जैसे दक्षिणी राज्यों में भी सबसे लोकप्रिय राजनीतिक हस्ती बने हुए हैं।

वहीं पूर्वोत्तर राज्यों बिहार, झारखंड, ओडिशा और पश्चिम बंगाल तथा दिल्ली, हरियाणा, मध्य प्रदेश, पंजाब, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में हर 10 में से 8 लोगों ने पीएम मोदी को ही सबसे लोकप्रिय हस्ती माना है। इस सर्वे में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की से ज्यादा मोदी की साख है।

सर्वे के अनुसार अमेरिका को लेकर सकारात्मक रुख रखने वाले भारतीयों की संख्या में कमी आई है। वर्ष 2015 में अमेरिका को लेकर सकारात्मक रुख रखने वाले भारतीयों की संख्या 70 प्रतिशत थी, लेकिन अब वह घटकर केवल 49 प्रतिशत रह गई है।