Published On: Mon, Nov 6th, 2017

महिलाएं भी बनीं एशिया की चैंपियन

Kakamigahara: Indian women’s hockey team members pose with medals and trophy as they celebrate after beat China to win women’s Asia Cup hockey title, qualify for 2018 World Cup in Kakamigahara , Japan

काकामिगाहारा। भारतीय महिला हॉकी टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए रविवार को चीन को शूटआउट में 5-4 से हराकर एशिया कप हॉकी टूर्नामेंट का चैंपियन बनने का गौरव हासिल कर लिया। इसके साथ ही अगले साल लंदन में होने वाले विश्व कप के लिए भी क्वालीफाई किया।
भारत और चीन के बीच जबर्दस्त मुकाबले में दोनों टीमें निर्धारित समय तक 1-1 से बराबरी थी, जिसके बाद शूटआउट में भारत ने 5-4 से बाजी मार ली। भारत ने ग्रुप चरण में भी चीन को 4-1 से हराया था और अब खिताबी मुकाबले में चीन को शूटआउट में शिकस्त देकर नया इतिहास बना दिया।
भारतीय हॉकी के इतिहास में 14 साल बाद एशिया में पुरुष और महिला हॉकी खिताब एक साथ भारत के नाम आ गए हैं। इससे पहले 2003 में दोनों खिताब भारत के नाम एकसाथ आए थे।
भारत ने मैच के 25वें मिनट में नवजोत कौर के मैदानी गोल से बढ़त बनाई थी। लेकिन चीन ने 47वें मिनट में तियानतियान लुआओ के पेनल्टी कार्नर पर किये गये गोल से बराबरी हासिल कर ली। मैच फिर शूटआउट में चला गया।
शूटआउट में दोनों ही टीमों ने 4-4 बार निशाने साधे। भारत के लिए कप्तान रानी, मोनिका, नवजोत कौर और लिलिमा मिंज ने निशाने साधे, जबकि नवनीत कौर अपना मौका चूक गईं। चीन के लिए मियू लियांग, वेनयू जू, ना वांग और यी चेन ने निशाने साधे। लेकिन कप्तान क्यूजिया कुई मौका चूक गईं।
इसके बाद सडन डैथ में मियू लियांग ने मौका गंवाया। लेकिन कप्तान रानी ने मौका भुनाते हुए भारतीय महिला टीम को एशिया कप का चैंपियन बना दिया। इससे पहले दक्षिण कोरिया ने मेजबान जापान को 1-0 से हराकर तीसरा स्थान हासिल किया। जापान को चौथा, मलेशिया को 5वां, थाईलैंड को छठा, कजाखस्तान को 7वां और सिंगापुर को 8वां स्थान हासिल हुआ।
10511357cd _indian_women_hockey_team_650x400_5150918443313 साल बाद महिला वर्ग में भारत को मिली सरदारी
जीत के बाद कप्तान रानी ने कहा कि टीम के लिए मेरिट के आधार पर इस बड़े टूर्नामेंट में जगह बनाना महत्वपूर्ण है। हम बहुत खुश हैं कि हम एशिया कप जीतने और मेरिट के आधार पर अगले साल के विश्व कप के लिए क्वालीफाई कर सके। भारत ने 13 साल बाद महिला वर्ग में एशिया कप जीता। इसके पहले वर्ष 2004 में नयी दिल्ली में हुए महिला एशिया कप हॉकी में भारत ने जापान को हराकर खिताब हासिल किया था। रानी ने कहा, हमारी टीम में कई युवा खिलाड़ी हैं जिन्होंने इतने बड़े मंच पर खेलते हुए जज्बा दिखाया। टीम ने चीन को अच्छी चुनौती दी। चीन ने भी बेहतरीन खेल दिखाया और मैच पेनल्टी शूटआउट तक खिंच गया। उन्होंने कहा, यह उच्च स्तर की प्रतियोगिता थी और हमने मैच में किसी भी समय ढिलायी नहीं बरती। सविता ने सडन डेथ में शानदार बचाव किया और मुझे खुशी है कि मैं सडन डेथ में गोल करने में सफल रही। उम्मीद है कि हम यहां से मिले आत्मविश्वास के दम पर अगले साल राष्ट्रमंडल खेलों और एशियाई खेलों में भी अच्छा प्रदर्शन करेंगे।
राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने दी टीम को बधाई
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उप राष्ट्रपति एम वेंकया नायडू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय महिला हॉकी टीम को एशिया कप के फाइनल में चीन पर जीत दर्ज करने पर बधाई दी। राष्ट्रपति ने ट्वीट किया, हमारी महिला हाकी टीम को एशिया कप जीतने पर बधाई। अब निगाहें 2018 विश्व कप में जीत पर हैं। उप राष्ट्रपति नायडू ने भी महिला टीम को ट्विटर के जरिये बधाई दी। उन्होंने लिखा, भारतीय महिला हॉकी टीम को चीन को हराकर 13 साल बाद एशिया कप जीतने पर बधाई। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया,   भारत उनके शानदार प्रदर्शन से खुश है। भारतीय महिला हॉकी टीम ने जापान के काकामीगाहारा में आज पेनल्टी शूटआउट में चीन को 5-4 से हराकर 2004 के बाद पहली बार एशिया कप जीता और अगले साल लंदन में होने वाले विश्व कप के लिए भी क्वालीफाई किया।