Published On: Thu, Dec 28th, 2017

विराट कोहली ने कहा- क्रिकेट मेरे खून में,करेंगे जोरदार आगाज

Mumbai: Indian cricket team captain Virat Kohli and coach Ravi Shastri address a pre-tour press conference in Mumbai on Wednesday. PTI Photo by Shirish Shete

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने शादी के बाद फिर से क्रिकेट से जुड़ते हुए कहा कि क्रिकेट उनके खून में है और इसमें फिर से वापसी करना उनके लिए कोई मुश्किल काम नहीं है।
भारतीय क्रिकेट टीम कप्तान विराट के नेतृत्व में नये वर्ष का आगाज दक्षिण अफ्रीका की जमीन पर करेगी जहां उस पर अफ्रीकी जमीन पर 25 वर्षों की जीत का सूखा खत्म करने की चुनौती होगी। भारत को 5 जनवरी से दक्षिण अफ्रीका दौरे में 3 टेस्ट, 6 वनडे और 3 ट्वेंटी-20 मैचों की सीरीज खेलनी है। भारतीय टीम बुधवार को दक्षिण अफ्रीका दौरे लिए रवाना हो गई।
विराट ने दक्षिण अफ्रीका दौरे पर रवाना होने से पहले कहा, ‘पिछले 3 सप्ताह हम दोनों (विराट-अनुष्का) के लिए खास था। लेकिन फिर से क्रिकेट से जुड़ना मेरे लिए कोई मुश्किल काम नहीं है, क्योंकि क्रिकेट मेरे खून में है।’  उन्होंने साथ ही कहा, ‘पिछले 3 सप्ताह के दौरान मैं अभ्यास कर रहा था, ताकि दक्षिण अफ्रीका में खेल सकूं। क्रिकेट से दूर रहकर भी मेरे दिमाग में यही था कि एक काफी महत्वपूर्ण दौरा होने वाला है।’
दक्षिण अफ्रीका की उछाल भरी पिचों पर भारत ने सिर्फ 2 टेस्ट जीते हैं। सबसे अच्छा नतीजा 2010-11 में मिला था, जब भारत ने 1-1 से ड्रॉ खेला था।
भारत दक्षिण अफ्रीका के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी के बाद वहां वर्ष 1992-93 में वहां का दौरा करने वाली पहली टीम थी और तब उसने 4 मैचों की सीरीज 0-1 से गंवायी थी। इसके बाद से भारत फिर कभी उसकी ज़मीन पर टेस्ट सीरीज नहीं जीत सका है।

भारतीय टीम की दशा  दिशा तय करेंगे अगले 18 महीने : शास्त्री
घरेलू सरजमीं पर पिछले 2 वर्षों में दबदबे वाला प्रदर्शन करने के भारतीय खिलाड़ियों को 2018 में विदेशी परिस्थितियों की चुनौती का सामना करना होगा। मुख्य कोच रवि शास्त्री का कहना है कि अगले 18 महीने  इस भारतीय क्रिकेट टीम  की दशा और दिशा तय करेंगे। शास्त्री ने कहा कि टीम इस बात से अच्छी तरह वाकिफ है कि दक्षिण अफ्रीका, इंग्ालैंड और आस्ट्रेलिया के आगामी दौरों में उसे किस तरह की चुनौती का सामना करना है। मुख्य कोच ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों से टीम में बहुत अधिक बदलाव नहीं हुए हैं और इससे खिलाड़ियों को आगे की चुनौतियों का सामना करने में मदद मिलेगी।
शास्त्री ने टीम की दक्षिण अफ्रीका रवानगी से पूर्व कहा कि अगला डेढ़ साल इस भारतीय क्रिकेट टीम की दशा और दिशा तय करेगा और पूरी टीम इससे अच्छी तरह वाकिफ है।
उन्होंने कहा,   हमें आगे दक्षिण अफ्रीका, आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में मैच खेलने हैं और मैं अभी यही कह सकता हूं कि 18 महीने के बाद यह बेहतर क्रिकेट टीम होगी।   भारत ने हाल में समाप्त हुई श्रृंखला में श्रीलंका को हराया। इससे पहले उसने घरेलू सरजमीं पर आस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और बांग्लादेश को पराजित किया। विदेशी दौरों के दौरान भारतीय बल्लेबाजों की तेज और उछाल लेती पिचों पर खेलने की क्षमता चर्चा का विषय रहता है और शास्त्री ने कहा कि भारतीय तेज गेंदबाजों के पास भी अच्छा मौका है। उन्होंने कहा,   अगर यह हमारे बल्लेबाजों के लिये मुश्किल होने जा रहा है तो हमारा काम उनके बल्लेबाजों को भी मुश्किल में डालना है।   मुख्य कोच ने इसके साथ ही खिलाडयिों से चुनौती का सामना करने के लिये कहा। उन्होंने कहा,   यह चुनौतीपूर्ण होगा। हम सभी जानते हैं कि दक्षिण अफ्रीका का दौरान कितना कठिन होता है लेकिन इस पेशे का यह सुंदर पक्ष है। चुनौती का डटकर सामना करने के लिये हम तैयार है।   शास्त्री ने कहा,   हमने तीन साल पहले आस्ट्रेलिया का दौरा किया और वहां बहुत अच्छा प्रदर्शन किया। हमने इंग्लैंड और श्रीलंका में अच्छा खेल दिखाया। इसलिए हम अच्छी तरह से तैयार हैं और ये खिलाड़ी पिछले चार पांच वर्षों से साथ में हैं और इससे मदद मिलेगी।